Diwali 2020 : दिवाली का शुभ मुहूर्त, प्रसाद, लक्ष्मी माता का श्रृंगार और मां लक्ष्मी जी की चौकी कब हटाएं

यह रहेंगे पूजा के शुभ मुहूर्त

शाम 5.28 बजे से 7.24 बजे

सर्वश्रेष्ठ मुहुर्त                   शाम 5.49 बजे से 6.02 बजे

प्रदोष काल मुहुूूर्त               शाम 5.33 बजे से रात 8.12 बजे

वृषभ काल मुहूूर्त               शाम 5.28 बजे से रात 7.24 बजे

दिवाली पर भगवान गणेश और मां लक्ष्मी की विशेष पूजा – अर्चना की जाती है। लेकिन अक्सर हमारे मन में यह ख्याल आता है कि पूजा के बाद मां लक्ष्मी (Maa Laxmi) को चढ़ाए गए प्रसाद और चौकी को हमें कब पूजा स्थल से हटाना चाहिए। अगर आप इसके बारे में नहीं जानते तो हम आपको इसके बारे में बताएंगे। दिवाली (Diwali) की रात बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होती है क्योंकि माना जाता है कि दिवाली की रात को मां लक्ष्मी भ्रमण पर निकलती हैं और अपने भक्तों पर अपनी कृपा बरसाती है तो आइए जानते है दिवाली का प्रसाद , श्रृंगार और मां लक्ष्मी की चौकी कब हटाएं

दिवाली का प्रसाद कब हटाएं

दिवाली पर पूजा के बाद सबसे अंतिम कार्य होता है। प्रसाद को हटाना। जब तक साधक अपने आराध्य के सामने बैठा रहता है। तब तक प्रसाद वहां पर रहना ही चाहिए। साधक को हमेशा पूजा स्थल से हटाने से पहले प्रसाद को हटा लेना चाहिए।दिवाली पर मां लक्ष्मी के पूजन के बाद सभी प्रसाद को पूजा स्थल से हटा लेना चाहिए। सिर्फ खाने के प्रसाद को ही वहां पर छोड़ना चाहिए। इस दिन आप माता लक्ष्मी के सामने जो भी रखें चाहें वह आभूषण हो, पैसे हो या फिर कोई अन्य चीज आपको वह सभी चीजें मां लक्ष्मी के पूजन के बाद हटा लेनी चाहिए।

दिवाली के दिन चढ़ाए गए प्रसाद को हमें स्वंय ग्रहण करना चाहिए और अपने परिवार वालों को ही बांटना चाहिए । इस प्रसाद को हमें अपने घर के बाहर के लोगों को नहीं देना चाहिए। इसके अलावा अन्य चीजें, जिसमें मिठाई, फल, खील खिलौने आदि जो आपने अलग से रखें हो उसका वितरण अन्य बाहर के लोगों में करें। लेकिन यह प्रसाद आपको दिवाली की रात में लोगों के बीच में नहीं बांटना है। इस प्रसाद को आप दूसरे दिन बांटे तो ज्यादा अच्छा है। क्योंकि इस दिन घर से कुछ भी बाहर को लोगों को नहीं दिया। ऐसा करने से आपकी सुख और संपन्नता दूसरों के पास चली जाती है।

दिवाली के दिन पूजा स्ठल से चौकी को तुरंत न हटांए। इस दिन आप सिर्फ प्रसाद को पूजा स्थल से हटा सकते हैं। इसके अगले दिन यानी गोवर्धन वाले दिन भगवान गणेश, माता लक्ष्मी,कलश , कलश के नीचे के चावल, मां लक्ष्मी के ऊपर चढ़े फूल, माला ये सभी चीजों को आप किसी सुरक्षित स्थान पर रख दें। क्योंकि दिवाली के किसी भी समान को घर से बाहर नहीं निकाला जाता। आप चाहें तो यह सभी सामान घर के किसी गमले में दबा सकते हैं। इसके अलावा दिवाली के दिन आप जो दक्षिणा चढ़ाते हैं। उस दक्षिणा को घर की किसी बेटी या बच्चों को दे दें। दिवाली के दिन आपने जो श्रृंगार का समान माता लक्ष्मी को चढ़ाया है। उसमें से आप कुछ भी दान न करें। इस समान को आप घर की किसी बहन, बेटी या बहु को दे सकती हैं।

Enable Notifications    Ok No thanks